दो लाख किसानों को मिला किसान सम्मान निधि का लाभ

0 74



दिसंबर 2018 में जिले में महज 1.75 लाख किसान पंजीकृत थे। जैसे ही प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की शुरूआत हुई कि यह आंकड़ा बढ़कर दो लाख हो गया। पूर्व प्रधानमंत्री एवं भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी के जन्म दिवस पर योजना की सातवीं किश्त के रूप में दो लाख कृषकों के खाते में धनराशि भेज दी गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बटन दबाते ही किसानों के मोबाइल फोन पर मैसेज आने का सिलसिला शुरू हो गया तो देर रात तक चलता रहा। मैसेज मिलते ही अन्नदाता झूम उठे।

कर्ज के बोझ से दबे और आत्महत्या कर रहे किसानों को राहत देने के लिए मार्च 2018 में केंद्रीय बजट में किसानों को छह हजार वार्षिक देने की व्यवस्था की गई है। यह धनराशि किसानों को तीन किस्तों में देने की व्यवस्था की गई थी। दिसंबर 2018 में पंजीकृत किसानों को योजना का लाभ मिल रहा था। योजना की शुरूआती दौर में जिले में पंजीकृत किसानों की संख्या 1.78 लाख थी। प्रथम चरण में 94 हजार किसानों को पहली किश्त दो हजार रुपये भेजी गई थी। इसके बाद पंजीयन की संख्या भी बढ़ती गई। वर्तमान समय में पंजीकृत किसानों की संख्या दो लाख से अधिक हो गई है। उप कृषि निदेशक अरविद कुमार सिंह ने बताया कि 1.90 लाख किसानों को छठवीं किश्त भेजी गई थी लेकिन इस बार 10, 000 और बढ़े हैं। इस पर दो लाख् किसानों को खाते में सातवीं किश्त भेजी जाएगी। डाटा अपडेट होने पर स्थिति साफ हो जाएगी। हालांकि जिसे निधि की राशि नहीं मिली है उसके खाते में एक-दो दिनों तक पहुंच जाएगी।