देवदत्त पडीक्कल ने पृथ्वी शॉ की तरह ही तोड़ा मयंक अग्रवाल का रिकॉर्ड और खटखटाया टीम इंडिया का दरवाजा

0 98


Vijay Hazare Trophy 2021: विजय हजारे ट्रॉफी 2021 में अब तक के मुकाबलों में मुंबई के ओपनर बल्लेबाज पृथ्वी शॉ और कर्नाटक के ओपनर बल्लेबाज देवदत्त पडीक्कल ने जबरा प्रदर्शन कर डाला। पृथ्वी शॉ को तो ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले टेस्ट मैच से टीम से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था और वो भारत के लिए वनडे मैच में भी खेल चुके हैं। अब अपने इस प्रदर्शन से उन्होंने सेलेक्टर्स का ध्यान अपनी तरफ जरूर खींचा है तो क्या एक बार फिर से उनकी टीम में एंट्री होगी।

वहीं बात अगर कर्नाटक के युवा ओपनर बल्लेबाज देवदत्त पडीक्कल की करें तो उन्होंने पिछले आइपीएल सीजन में आरसीबी के लिए कमाल की बल्लेबाजी की थी और फिर यहां पर उन्होंने कमाल की बल्लेबाजी करते हुए प्रभावित किया है और अपने ऐसे प्रदर्शन के बाद वो सिमित प्रारूप के लिए बड़े दावेदार भी बन गए हैं। पृथ्वी और देवदत्त दोनों ने ही विजय हजारे ट्रॉफी 2021 में 700 से उपर रन बनाए हैं। पृथ्वी शॉ की बात करें तो उन्होंने अब तक खेले 7 मैचों में 188.50 की औसत से 754 रन बनाए हैं। उन्होंने इस सीजन में चार शतक भी लगाए हैं जिसमें एक बार नाबाद 227 रन भी शामिल है तो वहीं उन्होंने इस टूर्नामेंट में अब तक 95 चौके व 21 छक्के लगाए हैं।


देवदत्त पडीक्कल का प्रदर्शन भी इस सीजन में बेहद दमदार रहा और वो इस टूर्नामेंट में लगातार चार शतक लगाने वाले पहले खिलाड़ी भी बने थे। उन्होंने भी अब तक खेले 7 मुकाबलों में 147.40 की औसत से 737 रन बनाए और उनका बेस्ट स्कोर 152 रन रहा। इस टूर्नामेंट में उन्होंने अब तक 70 चौके व 21 छक्के लगाए हैं। इसके अलावा देवदत्त पडीक्कल अब विजय हजारे ट्रॉफी के एक सीजन में सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में दूसरे नंबर पर आ गए और उन्होंने मयंक अग्रवाल को पीछे छोड़ दिया। वहीं पहले नंबर पर पृथ्वी शॉ हैं।


विजय हजारे ट्रॉफी के एक सीजन में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज

पृथ्वी शॉ- 754 रन- 2020-21

देवदत्त पडीक्कल- 737 रन- 2020-21

मयंक अग्रवाल- 723 रन- 2017-18

आपको बता दें कि पृथ्वी शॉ ने कर्नाटक के खिलाफ ही सेमीफाइनल मुकाबले में ही पहले मयंक अग्रवाल का रिकॉर्ड तोड़ा और इस टूर्नामेंट में एक ही सीजन में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज बने तो वहीं इसके ठीक बाद देवदत्त पडीक्कल ने भी मयंक अग्रवाल का रिकॉर्ड तोड़ दिया और इस टूर्नामेंट के एक सीजन में सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में दूसरे नंबर पर आ गए और मयंक अब तीसरे स्थान पर खिसक गए। पृथ्वी शॉ ने कर्नाटक के खिलाफ 122 गेंदों पर 165 रन की पारी खेली तो वहीं देवदत्त ने मुंबई के खिलाफ 64 रन की पारी खेली।