दूसरा वनडे मैच कल, क्या भारतीय टीम में है बदलाव की गुंजाइश

0 86


तीन मैचों की वनडे सीरीज के पहले मैच में ऑस्ट्रेलिया के हाथों करारी हार झेलने के बाद अब भारतीय टीम के सामने न सिर्फ कंगारू टीम से बदला लेना का मौका है, बल्कि टीम इंडिया के पास वनडे सीरीज में बने रहने का भी मौका है। ऐसे में क्या भारतीय टीम रविवार 29 नवंबर को सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर होने वाले मैच में क्या किसी बदलाव के साथ उतरेगी या फिर टीम को बदलाव की जरूरत नहीं है?

भारतीय टीम ने पहले मैच में फील्डिंग के नजरिए से लचर प्रदर्शन किया, जबकि गेंदबाज भी शुरुआत से विकेट नहीं निकाल सके। ऐसे में कप्तान विराट कोहली गेंदबाजी विभाग में एक या दो बदलाव कर सकते हैं, लेकिन बल्लेबाजी क्रम से वे छेड़छाड़ करना पसंद नहीं करेंगे। वहीं, मेजबान टीम ऑस्ट्रेलिया, जो पहला मैच जीत चुकी है, उसे एक बदलाव करने पर मजबूर होना पड़ सकता है, क्योंकि टीम के ऑलराउंडर मार्कस स्टोइनिस को पहले मैच के दौरान चोट का सामना करना पड़ा है।


भारतीय टीम में बदलाव की गुंजाइश ?

भारत के गेंदबाजी विभाग में बदलाव की गुंजाइश जरूर है, लेकिन कप्तान विराट कोहली कम से कम एक और मैच के लिए इन्हीं गेंदबाजों के साथ बने रह सकते हैं। मौजूदा टीम में युजवेंद्रा चहल और रवींद्र जडेजा स्पिनर हैं, जबकि जसप्रीत बुमराह, नवदीप सैनी और मोहम्मद शमी तेज गेंदबाज हैं। वहीं, बेंच पर कुलदीप यादव, शार्दुल ठाकुर और टी नटराजन बैठे हुए हैं। ऐसे में विराट कोहली के पास बदलाव करने की गुंजाइश नहीं है, जबकि बल्लेबाजी में वे किसी को बाहर नहीं कर सकते। अगर हार्दिक पांड्या गेंदबाजी करने के लिए उपलब्ध होते तो फिर नजारा कुछ अलग हो सकता था, लेकिन इस वक्त टीम सिर्फ पांच गेंदबाजों के साथ ही उतरने के लिए मजबूर है।

विराट कोहली अगर युजवेंद्रा चहल और कुलदीप यादव की जोड़ी के साथ मैदान पर उतरती है तो फिर रवींद्र जडेजा को बाहर करना पड़ सकता है। वहीं, अगर नवदीप सैनी को प्लेइंग इलेवन से बाहर रखा जाए तो फिर सिर्फ दो तेज गेंदबाज ही बचते हैं। ऐसे में विराट कोहली फिर से इसी प्लेइंग इलेवन के साथ मैदान पर उतर सकते हैं। एक विकल्प ये भी है कि वे नवदीप सैनी की जगह शार्दुल ठाकुर को मौका दें, क्योंकि वे मीडियम पेस गेंदबाजी के साथ-साथ बल्लेबाजी भी कर सकते हैं।


भारत की संभावित प्लेइंग इलेवन

शिखर धवन, मयंक अग्रवाल, विराट कोहली (कप्तान), श्रेयस अय्यर, केएल राहुल (विकेटकीपर), हार्दिक पांड्या, रवींद्र जडेजा, मोहम्मद शमी, नवदीप सैनी, युजवेंद्रा चहल और जसप्रीत बुमराह।

ऑस्ट्रेलिया की संभावित प्लेइंग इलेवन

आरोन फिंच (कप्तान), डेविड वार्नर, स्टीव स्मिथ, मार्नस लाबुशाने, एलेक्स कैरी (विकेटकीपर), कैमरन ग्रीन, ग्लेन मैक्सवेल, पैट कमिंस, मिचेल स्टार्क, एडम जैम्पा और जोश हेजलवुड।