दिल्ली में सुधरेगी यमुना रिवर फ्रंट की दशा, LG अनिल बैजल ने जारी किए निर्देश

0 40


दिल्ली में यमुना के दोनों किनारों पर करीब 1,476 हैक्टेयर में फैले डूब क्षेत्र के पुनर्विकास और किनारों को सुंदर बनाने वाले दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) के महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट यमुना रिवर फ्रंट की प्रगति का जायजा लेने के लिए उपराज्यपाल (एलजी) एवं डीडीए के अध्यक्ष अनिल बैजल ने शुक्रवार को डीडीए अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। इस दौरान एलजी ने निर्देश दिए कि इस क्षेत्र में जीरो वेस्ट शौचालय, पीने का पानी, बाहर बैठने के लिए सुविधाएं, सोलर लाइट आदि की व्यवस्था भी की जाए, ताकि यहां ज्यादा से लोग आ सकें।

इस प्रोजेक्ट को दस हिस्सों में विकसित किया जा रहा है, जिसके तहत यमुना के पांच किलोमीटर के हिस्से को पुनर्विकसित किया जाएगा। हाल ही में डीडीए ने अपने बजट में इस प्रोजेक्ट के लिए 105 करोड़ रुपये का प्रविधान किया है। यह इलाका इस तरह से विकसित किया जाएगा यहां आने वाले पर्यटक खुद को यमुना और प्रकृति से जुड़ा हुआ महसूस करें।


इस प्रोजेक्ट से यमुना को प्रदूषण से बचाने और वन्य जीवों को सहारा देने वाले स्थानीय वातावरण के अनुकूल पौधों की विविध प्रजातियों के विकास में भी मदद मिलेगी। इस इलाके में बड़ा वोटिंग क्लब भी खोला जाएगा और यमुना में गिरने वाले नालों को नदी से अलग कर दिया जाएगा।

योजना में ये इलाके होंगे शामिल

इस योजना में पुराने रेलवे पुल व गीता कालोनी पुल से आइटीओ बैराज (पश्चिमी तट), पुराने रेलवे पुल से आइटीओ बैराज (पूर्वी तट), एनएच 24 से डीएनडी फ्लाई-वे (पश्चिमी तट), डीएनडी से प्रस्तावित कालिंदी बाइपास (पश्चिमी तट), एनएच 24 से डीएनडी फ्लाई-वे (पूर्वी तट) भाग एक, एनएच 24 से डीएनडी फ्लाई-वे (पूर्वी तट) भाग दो, वजीराबाद बैराज से आइएसबीटी पुल (पूर्वी तट) गढ़ी मांडू और उस्मानपुर गांव के आसपास, वजीराबाद से आइएसबीटी पुल (पूर्वी तट) और आइटीओ बैराज से एनएच 24 (पूर्वी तट) शामिल हैं।