दिल्ली में मास्क न पहनने पर देना होगा 2000 रुपये फाइन, अरविंद केजरीवाल का बड़ा फैसला

0 85


राजधानी में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर बुलाई गई सर्वदलीय बैठक के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal, Delhi Chief Minister) मीडिया के सामने आए। उन्होंने डिजिटल पत्रकार वार्ता के दौरान कहा कि दिल्ली में मास्क नहीं पहनने पर 2000 रुपये फाइन देना हो। इससे पहले यह 500 रुपये था, जिसे बढ़ाकर 2000 रुपये किया गया है।

लोग घर पर मनाए छठ

दिल्ली में लगातार बढ़ते कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों के मद्देजनर अरविंद केजरीवाल ने डिजिटल पत्रकार वार्ता के दौरान लोगों से घर पर छठ महापर्व मनाने की अपील की है। उन्होंने कहा-‘ मैं चाहता हूं कि लोग छठ अपने-अपने घरों में मनाएं।’

इससे पहले सर्वदलीय बैठक को लेकर अरविंद केजरीवाल ने कहा कि सभी राजनीतिक दल ने इस बात पर सहमति जताई कि ऐसे मुश्किल समय में हम सबको एक होना चाहिए और लोगों की सेवा करनी चाहिए। यह मुश्किल समय है। ऐसे में इस मुद्दे पर राजनीतिक नहीं होनी चाहिए। राजनीतिक करने के समय और आएगा। हमें कुछ दिनों के लिए आरोप-प्रत्यारोप बंद कर देना चाहिए।


इससे पहले सर्वदलीय बैठक में भाजपा और कांग्रेस ने अपनी-अपनी बात रखी है। छठ को लेकर सर्वदलीय बैठक में दिल्ली कांग्रेस के अध्यक्ष चौ.अनिल कुमार ने केजरीवाल को एक पत्र सौंपा है। इसमें उन्होंने आग्रह किया है कि छठ पूजा के लिए छूट के मुद्देन पर वह दिल्ली हाई कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर करे।

15 जून से 18 नवंबर तक हुए कुल चालान

(नोट- दिल्ली पुलिस की ओर से प्रदान किए गए आंकड़े। 15 जून से 18 नवंबर तक)

समाजार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक, बृहस्पतिवार को हुई इस बैठक में सीएम अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण पर काबू पाने के लिए कड़े कदम उठाने को लेकर सभी दलों के नेताओं से चर्चा कर की। इस सर्वदलीय बैठक में भाजपा, कांग्रेस समेत सभी पार्टियों के नेता शामिल हुए। भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के नेताओं ने बैठक में मुखर होकर अपनी बात रखी।


वहीं, कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई की कड़ी में बुधवार को राजधानी दिल्ली में शादी समारोह के आयोजन में मेहमानों की संख्या फिर सीमित कर दी गई है। उपराज्यपाल अनिल बैजल की मंजूरी के बाद राजधानी दिल्ली में शादी समारोह में 200 लोगों की जगह सिर्फ 50 लोग ही शामिल हो सकेंगे। वहीं, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सरकार ने शादी समारोह में 200 लोगों के शामिल होने के पूर्व में दी गई अनुमति को निरस्त कर दिया है।


शादी समारोह में मेहमानों की संख्या सीमित करने का विरोध

वहीं, दूसरी भारतीय जनता पार्टी ने शादी समारोह में मेहमानों की संख्या 200 से 50 तक सीमित करने का विरोध किया है। विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने उपराज्यपाल अनिल बैजल को पत्र लिखा है। इसमें कहा है कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने महामारी की रोकथाम को लेकर विचार विमर्श के लिए बृहस्पतिवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई है। इसके बाद ही इस संबंध में फैसला लिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा था कि सर्वदलीय बैठक में वह मुख्यमंत्री के समक्ष बाजारों को बंद करने, शादी समारोह में मेहमानों की संख्या सीमित करने के साथ ही सार्वजनिक छठ पूजा पर रोक का मुद्दा उठाएंगे।