दिल्ली में दिखने लगा कोरोना का खौफ, 2000 रुपये फाइन न देना पड़े; लोग लगाने लगे मास्क

0 75


कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ रहे मामलों को देखते हुए बिना मास्क लगाए घर से बाहर निकलने वालों पर दो हजार का जुर्माना लगाने का दिल्ली सरकार का फैसला सही है, क्योंकि हाल के दिनों में जहां बाजारों व सार्वजनिक वाहनों में भीड़ बढ़ी है, वहीं लोग लापरवाह भी होने लगे हैं। कई लोग न तो मास्क लगाते हैं और न ही शारीरिक दूरी का पालन करते हैं। इन लोगों की वजह से संक्रमण बढ़ रहा है। वहीं, शुक्रवार को लोगों में मास्क न लगाने पर 2000 रुपये के फाइन का खौफ दिखा, लोग पुलिस की नजरों से बचते नजर आए।

दिल्ली सरकार की मानें तो कोरोना जैसी जानलेवा महामारी में किसी को इस तरह से लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करने की छूट नहीं दी जा सकती है। ध्यान रखना चाहिए कि दिल्ली में रोजाना सात हजार के करीब नए मामले आ रहे हैं और लगभग सौ लोगों की जान जा रही है। इस स्थिति पर हाई कोर्ट ने भी चिंता जताई है।


वहीं, केंद्र व राज्य सरकार मिलकर इस संकट का सामना करने के लिए कई कदम उठा रही हैं। अस्पतालों में आइसीयू के बेड बढ़ाए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने स्थिति से निपटने के लिए सभी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की है। सभी दलों ने इस समय मिलकर काम करने पर बल दिया। यह जरूरी भी है, क्योंकि लोगों की सेहत पर किसी तरह की सियासत नहीं होनी चाहिए। पिछले कुछ दिनों से सार्वजनिक छठ पूजा पर प्रतिबंध को लेकर रोष जताया जा रहा था। सर्वदलीय बैठक के बाद अब इस पर विवाद नहीं होना चाहिए। अदालत ने भी कहा है कि उत्सव मनाने के लिए जीवन जरूरी है।


मुख्यमंत्री ने राजनीतिक दलों के साथ ही सामाजिक व धार्मिक संस्थाओं से मास्क पहनने को लेकर लोगों को जागरूक करने और मास्क वितरण करने की अपील की है। यह सकारात्मक कदम है। इस तरह की जागरूकता की दरकार भी है। हम सभी को अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी। बहुत जरूरी होने पर ही घर से बाहर निकलना चाहिए वह भी मास्क पहनकर। शारीरिक दूरी का भी पालन जरूरी है। यदि सभी मिलकर प्रयास करेंगे तो निश्चित रूप से कोरोना को मात देने में सफल होंगे।