दिल्ली में जल्द से जल्द स्कूल खोलने को लेकर चल रहा है विचारः मनीष सिसोदिया

0 91


दिल्ली में स्कूल फिर से कब खुलेंगे इस पर अभी भी संशय बना हुआ है। इस बीच शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि वैक्सीनेशन को ध्यान में रखते हुए इस पर भी गंभीरता से विचार विमर्श चल रहा है कि जल्द से जल्द किस तरह स्कूल दोबारा से खोले जाएं। क्योंकि सीबीएसई बोर्ड की परीक्षाओं की तारीखें घोषित हो चुकी हैं। दिल्ली में कोरोना संक्रमण को देखते हुए 16 मार्च 2020 को केजरीवाल सरकार ने सभी स्कूलों को बंद करने का आदेश दिया था। तब से अभी तक राजधानी के स्कूल बंद हैं। छात्रों की पढ़ाई नुकसान न हो इसके लिए ऑनलाइन के जरिए शिक्षा दी जा रही है।

दिल्ली के सरकारी स्कूलों में कक्षा 6 से 12वीं तक एक जनवरी से 15 जनवरी तक शीतकालीन छुट्टी चल रही है। इस दौरान ऑनलाइन शैक्षणिक गतिविधियों का भी संचालन नही किया जा रहा है।


दिल्ली में 11 से 17 जनवरी तक अंतराष्ट्रीय शिक्षा सम्मेल

पत्रकार वार्ता में मनीष सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली में 11 से 17 जनवरी तक अंतराष्ट्रीय शिक्षा सम्मेलन होगा। इस सम्मेलन में 7 देशों के 21 पैनालिस्ट भाग लेंगे और कोविड वैक्सीनेशन के बाद स्कूल कॉलेज खोलने, परीक्षा के तौर तरीकों और प्रेक्टिकल के स्वरूप पर चर्चा करेंगे। सम्मेलन के दौरान यह विशेषज्ञ दिल्ली के शिक्षकों संग विविध विषयों पर संवाद स्थापित करेंगे।


शिक्षा मंत्री ने कहा कि दिल्ली एजूकेशन कांफ्रेंस डॉट ओआरजी नाम से एक वेबसाइट भी बनाई गई है जहां सम्मेलन के विभिन्न सत्रों की जानकारी उपलब्ध रहेगी।

स्कूल खुलने से पहले तैयारी पूरी

नव वर्ष पर नयी उम्मीदों के साथ स्कूल खुलने की उम्मीद भी जागी है। बोर्ड परीक्षाएं भी आनलाइन न होकर स्कूलों में ही आयोजित होंगी। ऐसे में कोरोना से बचाव के उपायों के साथ स्कूल भी तैयारियों में जुटने लगे हैं। आइपी एक्सटेंशन स्थित दिल्ली सरकार के सवरेदय सह शिक्षा उच्चतर माध्यमिक विद्यालय ने पहल करते हुए मेडिकल कम आइसोलेशन रूम तैयार किया गया है। जिसमें शिक्षकों व विद्यार्थियों व अन्य कर्मचारियों का स्वास्थ्य खराब होने पर आराम के लिए तमाम सुविधाएं उपलब्ध हैं।


संदिग्ध मरीजों के लिए कोरोना के लक्षण जांचने से लेकर आक्सीजन व दवा की व्यवस्था भी की गई है। पांच-छह घंटे आराम के बाद भी अगर स्वास्थ्य सही न हुआ तो तुरंत उन्हें स्कूल से ही अस्पताल पहुंचाया जाएगा। विद्यालय प्रमुख डा. अशोक कुमार गौड़ ने बताया कि उनका स्कूल दिल्ली का पहला ऐसा सरकारी स्कूल है, जहां स्कूल में आइसोलेशन रूम तैयार किया गया है। करीब डेढ़ माह पहले ही इसे बनाया गया है ताकि जब भी स्कूल खुले और बच्चे आएं तो उन्हें किसी प्रकार की दिक्कत न हो।


वहीं, स्कूल में कोई शिक्षक या कर्मचारी भी कोरोना से ठीक होने के बाद स्कूल लौटता है तो पहले एक सप्ताह तक उन्हें आइसोलेशन रूप से ही काम करना होगा। सरकार जब भी स्कूल खोलने के आदेश जारी करती है, उन्हें कोई समस्या नहीं आएगी।