दिल्ली में छठ पूजा पर प्रतिबंध लगाने के खिलाफ सीएम आवास के बाहर भाजपा का प्रदर्शन

0 130


दिल्ली में छठ पूजा पर प्रतिबंध को लेकर सियासत तेज होने लगी है। भाजपा के पूर्वांचल मोर्चा ने मंगलवार को मुख्यमंत्री आवास के बाहर प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों ने छठ पूजा के लिए अनुमति देने की मांग की है। भाजपा का कहना है कि सूर्य भगवान को अर्घ्य देने पर रोक लगाना अनुचित है। सरकार अपनी नाकामी को छिपाने के लिए छठ घाटों पर पूजा करने पर रोक लगा दी है। इसे लेकर दिल्ली विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने मुख्यमंत्री को पत्र भी लिखा है।

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता का कहना है कि दिल्ली सरकार द्वारा छठ महापर्व पर प्रतिबंध लगाए जाने के कारण दिल्ली में रह रहे पूर्वांचल के लोगों में रोष है। इस फैसले से व्रत करने वालों की परेशानी बढ़ गई है। उन्होंने कहा कि विशेष स्वच्छता अभियान के तहत भाजपा शासित नगर निगम के पार्षदों ने छठ घाटों की सफाई करा दी है। वहां पर बिजली-पानी की व्यवस्था करने, आपदा प्रबंधन टीम को लगाने की जिम्मेदारी दिल्ली सरकार की है। सरकार अन्य त्योहार की तरह छठ के लिए भी दिशा निर्देश जारी करे।


बिधूड़ी ने कहा कि यह पर्व लाखों लोगों की आस्था से जुड़ा हुआ है। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जरूरी उपाय करके लोगों को पूजा करने की अनुमति दी जानी चाहिए। प्रमुख छठ घाटों पर पांच-पांच लोगों को दो-दो मीटर की दूरी पर रहकर छठ पूजा करने के लिए विशेष पास जारी करना चाहिए। शारीरिक दूरी का पालन कराने के लिए रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन (आरडब्ल्यूए) की जिम्मेदारी तय की जानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि छठ घाटों की साफ-सफाई के साथ ही घाटों में स्वच्छ पानी भरने का काम भी तुरंत किया जाना चाहिए क्योंकि अब इस महापर्व के आयोजन में बहुत कम समय बचा है। इस काम में ट्रैफिक लाइटों पर तैनात किए गए पर्यावरण मार्शलों को भी लगाया जाना चाहिए।