तीसरी, चौथी कक्षा के विद्यार्थियों के लिए दस माह खुले स्कूल, बीस फीसद ही पहुंचे

0 38


बुधवार को लगभग दस महीने बाद दोबारा तीसरी और चौथी कक्षा के स्कूल खुले। हालांकि पहले दिन स्कूलों में हाजिरी सिर्फ 10 से 20 प्रतिशत ही रही। इन कक्षाओं के लिए समय सुबह 10 से दोपहर तीन बजे तक रहा। स्कूलों ने कोविड-19 को लेकर सरकार की ओर से जारी गाइडलाइंस का पूरा ख्याल रखा। कलासों के बाहर सैनिटाइजर की भी व्यवस्था की गई थी। क्लास शुरू होने से पहले बच्चों को कोरोना से बचाव संबंधी जरूरी बातें भी समझाई गई। इसके अलावा अभिभावकों द्वारा लिखित सहमति के बाद ही बच्चों को स्कूल आने की अनुमति दी गई है। प्राइवेट स्कूलों में भी केवल बीस फीसद ही बच्चे पहुंचे।


कोरोना से बचाव के लिए स्कूलों के गेट पर जहां सैनिटाइजर की व्यवस्था की गई, वहीं, बच्चों के लिए मास्क भी मुहैया करवाए गए। जिला शिक्षा अफसर एलिमेंट्री अमरजीत सिंह ने बताया कि ज्यादातर विद्यार्थी मास्क के साथ ही स्कूल पहुंचे, लेकिन जिन विद्यार्थियों के पास मास्क नहीं था उन्हें स्कूल में ही मास्क मुहैया करवाया। इसके साथ ही बच्चों को स्कूल छोड़ने आए पेरेंट्स को कोरोना से बचाव संबंधी सभी गाइडलाइंस का पालन करने के लिए भी समझाया गया। एक फरवरी से प्री-प्राइमरी क्लासिज भी होंगी शुरू

जिला शिक्षा अफसर एलिमेंट्री अमरजीत सिंह ने बताया कि बुधवार से तीसरी और चौथी कक्षा के विद्यार्थियों के लिए स्कूल खोले गए हैं, लेकिन आगामी एक फरवरी से प्री प्राइमरी क्लास के अलावा सभी क्लासों के विद्यार्थियों के लिए भी स्कूल खुल जाएंगे। उन्होंने बताया कि इस संबंधी स्टाफ को जहां जरूरी हिदायतें जारी कर दी गई हैं वहीं, बच्चों के ख्याल के लिए विशेष ट्रेनिग भी करवाई गई है। स्कूलों का दौरा कर लिया हालातों का जायजा : डीईओ

जिला शिक्षा अफसर एलिमेंट्री अमरजीत सिंह ने बताया कि उन्होंने सरकारी एलिमेंट्री स्कूल अनाज मंडी, पासी रोड और सांस्कृतिक विद्यालय स्कूलों का दौरा करके हालातों का जायजा लिया। उन्होंने कहा कि इन स्कूलों में उपस्थित करीब 50 फीसद थी, लेकिन ओवरआल केवल 20 फीसद ही विद्यार्थी स्कूलों में आए। स्कूलों में कोरोना से बचाव संबंधी सभी गाइडलाइंस का पालन भी किया जा रहा था। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में स्कूलों में बच्चों की गिनती बढ़ेगी।