ट्रैक्टर परेड के लिए दौरान दिल्ली में रहेगा ये रूट, घर से निकलने से पहले पढ़ लें यह खबर

0 57


Farmers tractor parade on Republic Day 2021: पिछले साल लाए गए तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों का विरोध कर रहे पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के किसानों आखिरकार दिल्ली पुलिस ने कई शर्तों के साथ गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर मार्च निकालने मंजूरी दी है। 26 जनवरी को ही राजपथ पर भी परेड निकाली जाएगी, ऐसे में दिल्ली पुलिस ने कई हिदायतों के साथ किसानों को ट्रैक्टर मार्च निकाले की अनुमति दी है। दिल्ली पुलिस की अहम शर्त के मुताबिक, 26 जनवरी को राजपथ पर गणतंत्र दिवस परेड खत्म होने के बाद किसान दिल्ली के तय रूटों पर ही ट्रैक्टर परेड निकाल सकेंगे। दिल्ली पुलिस की मंजूरी के तहत सिंघु, टीकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर ही परेड निकालने की इजाजत दी गई है, इसके अलावा किसी अन्य रूट किसानों का ट्रैक्टर मार्च निकालना आदेश की अवहेलना माना जाएगा।

विशेष आयुक्त इंटेलिजेंस दीपेंद्र पाठक के मुताबिक, मंजूरी के मुताबिक, सिंघु बार्डर पर 62 किलोमीटर, गाजीपुर बॉर्डर पर 46 किलोमीटर और आखिरी रूट यानी टीकरी बॉर्डर पर 63 किलोमीटर के दायरे में ट्रैक्टर परेड निकालने की अनुमति दी गई है। तीनों बार्डरों से परेड का 100 किलोमीटर से ज्यादा का रूट दिल्ली में होगा। उक्त तीनों इलाके दिल्ली की सीमा से हरियाणा और दिल्ली से सटे हैं।

यह होगा इंतजाम

तीन रूटों पर परेड के दौरान चप्पे-चप्पे पर पुलिस की तैनाती रहेगी, ताकि शांति व्यवस्था बनी रहे।
पुलिस ने किसान नेताओं से लिखित में आश्वासन ले लिया है कि वे शर्तों का उल्लंघन नहीं करेंगे।
तीनों रूटों पर किसान अनुशासित तरीके से तय रूटों पर ट्रैक्टर परेड निकालेंगे।
सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर परेड में शामिल होने वाले प्रत्येक ट्रैक्टर मालिकों और ट्रैक्टर की जानकारी पुलिस अपने पास रखेगी।


परेड के दौरान किसानों के वालंटियर भी साथ रहेंगे, क्योंकि यह बड़ा आयोजन होगा।
किसान नेताओं ने परेड में एक लाख से अधिक ट्रैक्टर शामिल होने का दावा किया है।
अधिकतर रूटों पर दिल्ली पुलिस सीसीटीवी कैमरे लगाने की कोशिश करेगी।
ऐसी होगा किसानों का ट्रैक्टर मार्च


ट्रैक्टर परेड के दौरान किसान नेता अपनी कार में सबसे आगे चलेंगे। ऐसे सुरक्षा और शांति के लिहाज से किया गया है।


ट्रैक्टर मार्च में शामिल हर वाहन पर तिरंगा झंडा लगा होगा।


ट्रैक्टर रैली के दौरान सिर्फ लोक संगीत और देशभक्ति गीत बजेंगे।


प्रत्येक ट्रैक्टर पर सिर्फ लोगों के सवार होने की अनुमति रहेगी।


ट्रैक्टर मार्च के दौरान ट्रॉली नहीं होगी, यह पुलिस ने खास हिदायत दी है।


ट्रैक्टर रैली के दौरान किसान 24 घंटे का राशन पानी पैक करके चलंगे।


रैली के दौरान जाम की स्थिति में किसान ठंड से भी बचाव का इंतजाम करेंगे।


किसी भी राजनीतिक दल का झंडा नहीं लगेगा।
किसान हथियार और लाठी लेकर नहीं चलेंगे।


किसी भी भड़काऊ या निगेटिव नारे वाले बैनर नहीं लगाएं जाएंगे।
जानिये- ट्रैक्टर रैली का रूट


टिकरी बॉर्डर से ट्रैक्‍टर्स पहले नागलोई जाएंगे। इसके बाद नजफगढ़ और वेस्‍टर्न पेर‍िफेरल एक्‍सप्रेसवे होते हुए वापस लौटेंगे


चिल्‍ला बॉर्डर ट्रैक्‍टर्स क्राउन प्‍लाजा रेड लाइन तक जाएंगे और फिर बाएं मुड़कर डीएनडी फ्लाईवे की ओर चले जाएंगे। फिर वे दादरी मेन रोड की तरफ जाएंगे और फिर वापस चिल्‍ला आ जाएंगे।
सिंघु बॉर्डर से ट्रैक्टर परेड निकलकर ट्रैक्‍टर रैली कांजावाला, बवाना, औचंदी बॉर्डर, केएमपी एक्‍सप्रेस से होकर निकलेगी और फिर वापस होगी।
गाजीपुर बॉर्डर से ट्रैक्‍टर रैली निकलकर 56 फुट रोड, अप्‍सरा बॉर्डर, हापुर जाएगी। इसके बाद वापसी में केएमपी और वेस्‍टर्न पेरिफेरल एक्‍सप्रेसवे होते हुए लौटेगी।
राष्ट्रीय राजमार्ग पर बंद रहेगी दूसरे वाहनों की आवाजाही


कृषि कानूनों के रद करने की मांग को लेकर आंदोलनरत संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से गणतंत्र दिवस पर निकाले जाने वाले ट्रैक्टर परेड के दौरान राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएच) संख्या एक पर मुकरबा चौक से आवागमन बंद रहेगा। फिलहाल सिंघु बॉर्डर की तरफ से गांवों के रास्ते एनएच से होकर दिल्ली व मुकरबा चौक से सिंघु बार्डर की ओर छोटे-बड़े वाहनों की आवाजाही हो रही है। लेकिन ट्रैक्टर परेड के दौरान आवागमन पूरी तरह से ठप हो जाएगा। इस मार्ग को आम लोगों के लिए तब तक नहीं खोला जाएगा, जब तक सिंघु बॉर्डर से आने वाले किसानों के ट्रैक्टरों का काफिला एनएच एक से उतरकर संजय गांधी ट्रांसपोर्ट नगर की तरफ न मुड़ जाएं। ट्रैक्टर परेड के दौरान एनएच को बंद रखने की कवायद रविवार से ही शुरू कर दी गई है। पुलिस ने एनएच पर संजय गांधी ट्रांसपोर्ट नगर के निकट बैरिकेड रखने शुरू कर दिया है। वहीं सिंघु बार्डर पर रविवार को भी सैकड़ों की संख्या में ट्रक-ट्रैक्टर पहुंचे।