जिले में कमजोर हो रही बुनियादी शिक्षा की नींव

0 118


जिले में बुनियादी शिक्षा की नींव कमजोर होती जा रही है। हालत यह है कि विभिन्न विकास खंडों में करीब 490 स्कूलों को एक-एक शिक्षक के भरोसे छोड़ दिया गया है। ऐसे में इन विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों को पांच-पांच कक्षाओं को आनलाइन शिक्षण कराने में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जिले में कुल 1290 प्राथमिक विद्यालय वर्तमान में संचालित हैं।

कुमाऊं के प्राचीन जिले में प्राथमिक शिक्षा की स्थिति में लाख कोशिशों के बाद भी सुधार नहीं हो पा रहा है। जिले के विभिन्न विकास खंडों में 490 प्राथमिक विद्यालय ऐसे हैं, जहां पांच-पांच कक्षाओं को एक-एक शिक्षक के भरोसे छोड़ दिया गया है। ऐसे में इसका असर इन विद्यालयों में पंजीकृत छात्र-छात्राओं के आनलाइन शिक्षण पर पड़ रहा है। एक ही शिक्षक को पांच-पांच कक्षाओं में आनलाइन शिक्षण कराना पड़ रहा है, जिससे शिक्षण की गुणवत्ता पर असर पड़ रहा है। इन विद्यालयों की विद्यालय प्रबंध समिति तथा विद्यालय विकास प्रबंध समिति लंबे अर्से से इन विद्यालयों में एक और शिक्षक की नियुक्ति किए जाने की मांग उठा रहे हैं, लेकिन स्थिति जस की तस बनी हुई है। इससे विद्यार्थियों का भविष्य चौपट हो रहा है। इसके बाद भी जिम्मेदार इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं।


नौनिहालों के बेहतर हितों के लिए शासन व विभाग सजग है। जिले में एकल शिक्षक वाले विद्यालयों का विवरण शासन व शिक्षा निदेशालय को भेजा गया है। वहीं पदोन्नति की प्रक्रिया भी चल रही है। जल्द ही समस्या के समाधान की आशा है।