जानिए क्या है साउंड बीमार, जो हेडफोन की कर देगा छुट्टी, बिना किसी डिवाइस के सुन पाएंगे म्यूजिक 

0 85

. टेक्नोलॉजी की दुनिया में कुछ भी स्थायी नही रहता है। एक वक्त था, जब भारत में वायर्ड हेडफोन का जलवा हुआ करता था। लेकिन जल्द ही वायर्ड हेडफोन की जगह ब्लूटूथ हेडफोन और फिर इयरबड्स ले ली। हालांकि अब इन सभी तरह के हेडफोन की भी छुट्टी होने वाली है। ऐसा इसलिए क्योंकि टेक्नोलॉजी की दुनिया में जल्द साउंड बीमार की एंट्री होने जा रही है। साउंड बीमर तरंगों के जरिए सीधे कान तक म्यूजिक को पहुंचाने का काम करेगा। इसके लिए किसी तरह के वायर या इयरपीस की जरूरत नही होगी। साथ कान में किसी तरह की कोई डिवाइस नही लगानी होगी।

सीधे कान तक पहुंचेगी म्यूजिक

इस साउंड बीमार को इजरायली कंपनी नोवेटो सिस्टम ( Noveto Systems) ने विकसित करने का दावा किया है। यह एक डेस्कटॉप उपकरण होगा, जो वॉयस को सीधे यूजर के कान तक पहुंचाएगा। न्यूज एजेंसी AP के मुताबिक साउंड बीमार की निर्माता कंपनी का कहना है कि ‘साउंड बीमर’ 3D सेंसिंग मॉड्यूल पर काम करेगी, जो यूजर के कान की लोकेशन को स्कैन करके अल्ट्रासोनिक साउंड को कान तक भेजने का काम करेगा। इस टेक्नोलॉजी में छोटे-छोटे नजर न आने वाली ध्वनि तरंगों को एक बबल के जरिए कान तक पहुंचाया जाएगा। जिससे यूजर हेडफोन पहने बिना भी म्यूजिक सुन पाएगा। साथ ही कानों के बाहर कोई आवाज नही सुनाई देगी। इससे आसपास के लोगों को आपके म्यूजिक से कोई खास दिक्कत नही होगी।

हालांकि टेक्नोलॉजी साउंड बीमार से भी आगे निकल चुकी है। अंतरिक्ष एजेंसी स्पेसएक्स के सीईओ एलन मस्क ने न्यूरालिंक से सीधे मस्तिष्क तक म्यूजिक पहुंचाने का ऐलान किया है। एलन मस्क की कंपनी न्यूरालिंक नाम की एक कंप्यूटर चिप बना रही है। यही चिप म्यूजिक को सीधे मस्तिष्क तक पहुंचाएगी। हालांकि इस चिप को मस्तिष्क में सर्जरी के जरिए फिट करना होगा।