जानिए कैसे और कितने तापमान पर स्टोर की जा रही देश में कोरोना वैक्सीन

0 79


देश में कोरोना टीकाकरण की आज से शुरुआत हो चुकी है। पीएम मोदी ने देश में टीकाकरण अभियान की शुरुआत की है। इस बीच देश की दोनों कोरोना वैक्सीन(कोविशील्ड और कोवैक्सीन) की लाखों डोज़ को कहां और कैसे रखा जाएगा, इसको लेकर सबके मन में सवाल है। इसको लेकर सरकार की योजना क्या है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अनुसार, वर्तमान में देश में दो टीकों इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की ‘कोविशिल्ड’ और भारत बायोटेक की ‘कोवाक्सिन’ को मंजूरी मिल चुकी है और चार और वैक्सीन अभी पाइपलाइन में हैं और उन्हें भी लाने की योजना पर काम चल रहा है।

कितने तापमान पर स्टोर हो रहा टीका ?

देश के लिए अच्छी खबर ये है कि अमेरिका की फाइजर-बायोएनटेक(Pfizer-BioNTech) या मॉडर्ना(Moderna) वैक्सीन के विपरीत जिन्हें माइनस 70 डिग्री सेल्सियस में स्टोर करने की आवश्यकता होती है, भारतीय टीकों को केवल 2-8 डिग्री सेल्सियस पर स्टोर किया जा सकता है। जैव प्रौद्योगिकी विभाग(Department of Biotechnology) की सचिव रेणु स्वरूप के अनुसार, सभी भारतीय टीकों को 2-8 डिग्री सेल्सियस पर स्टोर करने के हिसाब से तैयार किया गया है। यहां तापमान को एक कारक के रूप में देखते हुए लॉजिस्टिक्स पर काम किया गया है।


अब तक, सरकार ने 1.1 करोड़ ‘कोविशिल्ड’ और 55 लाख ‘कोवाक्सिन’ वैक्सीन क्रमशः 200 रुपये और 206 रुपये प्रति खुराक की कीमत पर खरीदे हैं। फ्रंटरनर वैक्सीन ‘कोविशिल्ड’ को 2-8 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर स्टोर और ट्रांसपोर्ट किया जा रहा है।

कितनी कारगर है कोरोना वैक्सीन ?

द लैंसेट में प्रकाशित लेट-स्टेज ट्रायल से अंतरिम डेटा के विश्लेषण में ‘कोविशिल्ड’ ने 70.4 प्रतिशत की औसत प्रभावकारिता दिखाई है। कोवाक्सिन ‘एक अत्यधिक शुद्ध और निष्क्रिय दो-खुराक SARS-CoV-2 वैक्सीन है, जिसे 300 मिलियन से अधिक खुराक के एक उत्कृष्ट सुरक्षा ट्रैक रिकॉर्ड के साथ “वेरो सेल” विनिर्माण मंच में निर्मित किया गया है।

टीके के स्टोरेज के लिए उपयोग किए जाने वाले मेडिकल रेफ्रिजरेटर एक तापमान पर शीशियों (छोटे ग्लास कंटेनर होल्डिंग वैक्सीन खुराक) को रखने में मदद करते हैं ताकि यह रोग नियंत्रण के लिए प्रभावी हो। आम तौर पर, एक 225-लीटर मेडिकल रेफ्रिजरेटर 40,000 से 60,000 शीशियों को स्टोर कर सकता है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने दिसंबर मध्य में बताया कि कोरोना वैक्सीन के स्टोरेज के लिए 29,000 कोल्ड चेन पॉइंट, 240 वॉक-इन कूलर, 70 वॉक-इन फ्रीज़र, 45,000 आइस-लाइनेड रेफ्रिजरेटर, 41,000 डीप फ़्रीज़र्स और 300 सोलर रेफ्रिजरेटर का उपयोग किया जाएगा।