छात्र संख्या के आधार पर बनेगा रोस्टर, 50 फीसद क्षमता के साथ आज से खुल रहे डिग्री कॉलेज

0 100


छत्रपति शाहू जी महाराज सीएसजेएमयूम से संबद्ध डिग्री कॉलेजों में सोमवार से स्नातक की कक्षाएं लगनी शुरू हो जाएंगी। पहले दिन 50 फीसद क्षमता के अनुसार छात्र छात्राओं को प्रवेश मिलेगा। इसके बाद छात्र संख्या के आधार पर कॉलेज प्रशासन पठन पाठन की व्यवस्था करने के लिए रोस्टर लगाएगा। इसमें स्नातक व स्नातकोत्तर के छात्र छात्राओं को अलग-अलग समय पर बुलाया जा सकता है, जबकि 30 से 40 फीसद छात्र छात्राओं की हफ्ते में तीन दिन कक्षाएं चलेंगी। शहर में 20 से अधिक सहायता प्राप्त डिग्री कॉलेजों में 50 हजार छात्र-छात्राएं अध्ययनरत हैं। स्ववित्तपोषित के 700 से अधिक डिग्री कॉलेज संबद्ध हैं। इन सभी कॉलेजों में कोविड-19 से सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए ऑफलाइन पढ़ाई का खाका खींचा जा रहा है।

शहर के डिग्री कॉलेजों में एहतियात के साथ पठन पाठन शुरू कराए जाने के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन ने अनुमति दे दी है। सोमवार से कक्षाएं लगाए जाने के लिए कॉलेज तैयार हैं। कॉेलेजों को सैनिटाइज किया जा रहा है जबकि छात्र छात्राओं के प्रवेश से पहले उनकी थर्मल स्क्रीनिंग भी की जाएगी। कई कॉलेजों में ऑक्सीमीटर की व्यवस्था भी है। कोरोना काल में कॉलेज खोलने के लिए छात्रों को प्रवेश देने से पूर्व लए शारीरिक दूरी को प्राथमिकता पर रखा जाएगा।


इनका ये है कहना

बीकॉम के छात्रों को रोस्टर के हिसाब से बुलाया जाएगा। एक बैच 30 छात्र छात्राओं का रहेगा। एक-एक दिन के समय अंतराल पर उनकी कक्षाएं लगेंगी। छात्र छात्राओं को इस संबंध में उनके मोबाइल पर संदेश भेज दिया गया है।

                                                                     डॉ. स्वदेश श्रीवास्तव, प्राचार्य हर सहाय डिग्री कॉलेज


इनका ये है कहना

ऑफलाइन के साथ ऑनलाइन का विकल्प भी छात्र छात्राओं के लिए रहेगा। उन्हेंं इस प्रकार कॉलेज बुलाया जाएगा जिससे शारीरिक दूरी बरकरार रहे। स्नातकोत्तर की कक्षा पहले से चल रही हैं इसलिए कोविड-19 से बचाव के साथ पढ़ाई कराए जाने की रूपरेखा पहले से बनी हुई है।

                                                                     डॉ. अमित कुमार श्रीवास्तव, प्राचार्य डीएवी डिग्री कॉलेज

इनका ये है कहना

किसी भी छात्र छात्रा को मास्क के बगैर प्रवेश नहीं मिलेगा। एमए द्वितीय वर्ष व स्नातक के छात्र छात्राओं को बुलाया जाएगा। मुख्य द्वार पर उनकी थर्मल स्क्रीनिंग होगी व उन्हेंं सैनेटाइज किया जाएगा। छात्र संख्या इतनी रखी जाएगी जितने में शारीरिक दूरी का पालन कराया जा सके।

                                                                      डॉ. छाया जैन, प्राचार्य वीएसएसडी डिग्री कॉलेज


इनका ये है कहना

कॉलेज खोलने की स्वीकृति कॉलेजों को सशर्त दी गई है। कोरोना वायरस से सुरक्षा के इंतजाम के साथ छात्र छात्राओं की कक्षाएं लगाई जा सकती हैं। इसके लिए कॉलेज अपने अनुसार रोस्टर तैयार कर सकते हैं।

                                                                   

इन निर्देशों का कहना होगा पालन


मास्क अनिवार्य व परिसर में थूकना वर्जित होगा

प्रवेश से लेकर कक्षा में बैठने तक छह फिट की शारीरिक दूरी अनिवार्य रहेगी

हाथों को साबुन से धोने का इंतजाम कॉलेजों को करना होगा। इसके अलावा कक्षाएं भी रोजाना सैनिटाइज होंगी

शिक्षव व छात्र के स्वास्थ्य पर कॉलजों को निगरानी रखनी होगी। शंका होने पर विश्वविद्यालय व स्वास्थ्य विभाग को

रिपोर्ट करना होगा

आरोग्य सेतु का उपयोग अनिवार्य रहेगा

कॉलेजों में मेस, जिम व स्वीमिंग पूल बंद रहेंगे

थर्मल गन, अल्कोहल वाइप्स, डिस्पोजल पेपर की व्यवस्था अनिवार्य