चिल्ला और गाजीपुर बॉर्डर बंद, यूपी से दिल्ली आने के लिए इन रास्तों का करें इस्तेमाल

0 41


तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर सिंघु बॉर्डर पर चल रहा पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों के किसानों का आंदोलन सोमवार को 47वें दिन में प्रवेश कर गया है। इस बीच सिंघु के साथ टीकरी, यूपी गेट समेत दिल्ली-एनसीआर के आधा दर्जन बॉर्डर पर किसान प्रदर्शनकारी डटे हुए हैं, उनकी एक ही मांग है कि तीनों केंद्रीय कृषि कानून वापस लिए जाएं। वहीं, किसानों के प्रदर्शन के चलते चिल्ला बॉर्डर के साथ गाजीपुर बॉर्डर को भी आवाजाही के लिए बंद कर दिया गया है। इससे गाजियाबाद और नोएडा से दिल्ली आ रहे लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। कई इलाकों में तो सोमवार सुबह से ही जाम लगना शुरू हो गया है। किसानों के प्रदर्शन के चलते दिल्ली यातायात पुलिस (Delhi Traffic Police) ने चिल्ला और गाजीपुर बॉर्डर बंद होने के चलते वैकल्पिक रास्तों का अपनाने की सलाह दी है। इसके मुताबिक, उत्तर प्रदेश से दिल्ली आ रहे वाहन चालक आनंद विहार, डीएनडी, भोपुरा और लोनी बॉर्डर के रास्तों का इस्तेमाल कर सकते हैं।


सरकार को दंगल में दिखाई है कुश्ती

यूपी गेट किसान आंदोलन स्थल पर दंगल का आयोजन किया गया। चौ. नरेश टिकैत ने कहा कि यहां दंगल का आयोजन कराकर हमने सरकार को कुश्ती दिखाई है। सरकार अपनी हठधर्मिता और जिद्दी वाला रवैया छोड़ दे। वह यहां दंगल में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे थे।

वहीं, तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को लेकर केंद्र सरकार और प्रदर्शनकारी किसान संगठनों के बीच चल रहे गतिरोध के बीच सोमवार को सबकी निगाहें सुप्रीम कोर्ट पर टिकी हैं। कोर्ट में तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ दायर विभिन्न याचिकाओं पर सोमवार को सुनवाई होनी है। बताया जा रहा है कि दिल्ली की सीमाओं पर बैठे किसानों को हटाने की मांग वाली याचिका पर भी सुनवाई होगी।