चंडीगढ़ में इंटरनेट की समस्या फिर बनी स्टूडेंट्स की राह में रोड़ा, 50 विद्यार्थी नहीं दे पाए परीक्षा

0 55


पंजाब यूनिवर्सिटी के डॉ. एसएस भटनागर यूनिवर्सिटी इंस्टिट्यूट आफ केमिकल इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी विभाग में परीक्षाएं आयोजित की जा रही है। पहले ही दिन स्टूडेंट्स को नेटवर्क कनेक्टिविटी की समस्या का सामना करना पड़ा है। इससे पहले सितंबर में पीयू ने सभी यूजी और पीजी कोर्स की पहली ऑनलाइन परीक्षाओं का आयोजन किया था, इसमें भी नेटवर्क कनेक्टिविटी की समस्या आई थी। जो स्टूडेंट्स खराब नेटवर्क कनेक्टिविटी की वजह से परीक्षा नहीं दे पाए हैं, वे अब कैंपस खुलने पर फिजिकल परीक्षा देंगे। हालांकि अभी कैंपस खुलने का कोई रास्ता नहीं दिख रहा है। ऐसे में स्टूडेंट्स को परीक्षा देने के लिए लंबे समय तक इंतजार करना होगा।

उसके बाद अब केमिकल विभाग की ओर से करवाई जा रही परीक्षा में भी नेटवर्क कनेक्टिविटी की समस्या होने से स्टूडेंट्स को परेशानी का सामना करना कर पड़ रहा है। वहीं विभाग ने एग्जाम को लेकर जो एसओपी जारी की थी, वो भी काफी विवादों में आई थी। स्टूडेंट्स को कहा गया था कि अगर कोई भी स्टूडेंट्स पांच मिनट तक नेटवर्क कनेक्टिविटी में नहीं रहता तो उस छात्र को डिसक्वालिफाई कर दिया जाएगा। विभाग ने अब तक किसी भी छात्र को डिसक्वालिफाई नहीं किया गया है।


ऑनलाइन परीक्षा में नकल ना हो इसके लिए विभाग ने एसओपी में कई बेहतरीन चीजों को शामिल किया था। स्टूडेंट्स को कैमरे की निगरानी में रहना जरूरी होगा, परीक्षा निरीक्षक को स्टूडेंट्स का चेहरा साफ दिखे और स्टूडेंट्स आंसर शीट पर लिखता हुआ दिखना चाहिए। इसी को ध्यान में रखते हुए परीक्षाएं आयोजित की गईं।

गांवों में नेटवर्क की समस्या

जो स्टूडेंट्स दूर दराज और गांवों में रहते हैं, उन्हें नेटवर्क कनेक्टिविटी की काफी समस्या हो रही है। खराब नेटवर्क कनेक्टिविटी की वजह से स्टूडेंट्स परीक्षा में कनेक्ट नहीं हो पाए, लेकिन विभाग ने उन्हें डिस्कोलीफाई नहीं किया। सूत्रों के अअनुसार नेटवर्क कनेक्टिविटी न होने की वजह से करीब 50 स्टूडेंट्स परीक्षा नहीं दे पाए हैं।