कोरोना योद्धा की गई जान तो परिवार को केंद्र से भी मिलेंगे 50 लाख

0 75


कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ जंग के दौरान संक्रमित होकर जान गंवाने वाले निगम कर्मचारियों के स्वजन को केंद्र सरकार द्वारा घोषित 50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता भी मिलेगी। केंद्र द्वारा जारी दिशा-निर्देश में यह बात स्पष्ट होने के बाद दिल्ली के सभी निगमों ने कोरोना योद्धाओं की फाइल बनाकर भेजना शुरू कर दिया है। यदि, केंद्र की आर्थिक सहायता को जोड़ दिया जाए तो अब निगम कर्मचारियों की कोरोना से जान जाने पर उनके परिवार को 1.60 करोड़ की आर्थिक सहायता मिलेगी। तीनों निगमों में अब तक 44 कर्मचारियों की जान जा चुकी है।

दिल्ली सरकार द्वारा कोरोना ड्यूटी के दौरान संक्रमित हुए कर्मचारियों की जान जाने पर एक करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता दी जाती है। वहीं, नगर निगम की तरफ से परिवार के एक सदस्य को नौकरी और 10 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी जा रही है। उत्तरी दिल्ली नगर निगम के 28 कर्मचारियों की अब तक कोरोना से जान जा चुकी है। वहीं, दक्षिणी निगम में ऐसे कर्मचारियों की संख्या 13 है।


वहीं पूर्वी दिल्ली में तीन कर्मचारियों की कोरोना से जान जा चुकी है। दक्षिणी निगम ने बीते दिनों कोरोना की जांच में लगे डॉक्टर नेजम की जान जाने पर उनकी पत्नी शबाना को निगम में स्थायी नौकरी के साथ दस लाख की आर्थिक सहायता दी थी। इससे पूर्व एक सफाई कर्मचारी के परिवार को भी यह राशि और नौकरी दी गई है।

बीते दिनों उत्तरी दिल्ली नगर निगम द्वारा एक अल्पकालिक प्रश्न के जवाब में बताया गया था कि 28 में से दो कर्मचारियों को राज्य सरकार द्वारा घोषित एक करोड़ की सहायता राशि मिल चुकी है।


दिल्ली सरकार के माध्यम से जाएगी फाइल

निगम के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि केंद्र द्वारा घोषित आर्थिक सहायता के लिए कर्मचारियों की फाइल राज्य सरकार के माध्यम से केंद्र सरकार को भेजे जाने का प्रावधान है। इसलिए दिल्ली सरकार द्वारा घोषित एक करोड़ और केंद्र सरकार द्वारा घोषित 50 लाख की आर्थिक सहायता के लिए निगम द्वारा दिल्ली सरकार को फाइलें भेजी जा रही हैं।