कोरोना के खिलाफ निर्णायक मोड़ पर लड़ाई, सात दिनों में प्रति 10 लाख आबादी पर केवल 87 नए मामले और एक मौत

0 99


कोरोना के खिलाफ निर्णायक लड़ाई के शुरु होने में महज चंद घंटे ही बचे हैं। इस बीच कोरोना संक्रमण की रोकथाम को लेकर एक अच्‍छी खबर सामने आई है। देश में कोरोना संक्रमण का कहर लगातार कम हो रहा है। पिछले सात दिनों में प्रति 10 लाख आबादी पर महज 87 मामले दर्ज किए गए हैं। नए मामलों की तुलना में अधिक मरीजों के ठीक होने का सिलसिला भी बना हुआ है, इसके चलते सक्रिय मामले लगातार कम हो रहे हैं। महामारी के चलते मरने वालों का दैनिक आंकड़ा भी दो सौ के आसपास बना हुआ है।

प्रति दस लाख आबादी पर एक मौत

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। उसने यह भी बताया कि पिछले सात दिनों में प्रति दस लाख आबादी पर मौत का केवल एक मामला सामने आया है। मंत्रालय के मुताबिक इस महामारी से मृत्युदर 1.44 फीसद है। भारत दुनिया के उन देशों में से एक है, जहां प्रति दस लाख आबादी पर कोरोना से होने वाली मौतों की संख्या सबसे कम है। उपचाराधीन मरीजों यानी सक्रिय मामलों की संख्या में भी लगातार गिरावट आ रही है और यह आंकड़ा 2.13 लाख है जो देश में संक्रमण के कुल मामलों का केवल 2.03 प्रतिशत है।


बाकी देशों की तुलना में भारत की स्थिति ठीक

मंत्रालय ने बताया कि पिछले 24 घंटे में इस महामारी के 15,590 नए मामले सामने आए, 15,975 लोग स्वस्थ हुए और 191 लोगों की मौत हुई। मंत्रालय ने कहा, ‘पिछले सात दिनों में प्रति दस लाख आबादी पर नए मामलों की संख्या केवल 87 थी। यह संख्या रूस, जर्मनी, ब्राजील, फ्रांस, इटली, अमेरिका और ब्रिटेन जैसे देशों की तुलना में कम है।’

एक करोड़ एक लाख 62 हजार मरीज हुए ठीक

कुल संक्रमितों का आंकड़ा एक करोड़ पांच लाख 27 हजार से अधिक हो गया है। इनमें से एक करोड़ एक लाख 62 हजार मरीज पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं और 1,51,918 लोगों की जान भी जा चुकी है। ठीक होने वाले लोगों और सक्रिय मामलों की संख्या के बीच अंतर लगातार बढ़ता जा रहा है और यह 99 लाख को पार कर गया है। मरीजों के ठीक होने की दर बढ़कर 96.53 प्रतिशत हो गई।


गुरुवार को 7.30 लाख टेस्ट

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार देश में 14 जनवरी तक कुल 18,49,62,401 नमूनों की कोरोना संबंधी जांच की गई। इनमें से 7,30,096 नमूनों की जांच बृहस्पतिवार को की गई।