केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा- पहले चरण में तीन करोड़ लोगों को मुफ्त में लगेगा टीका

0 84


केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डाक्टर हर्षवर्धन ने कहा है कि दिल्ली सहित देशभर में कोरोना का टीका मुफ्त लगेगा। थोड़ी देर बाद उन्होंने ट्वीट कर स्पष्ट किया कि पहले चरण में प्रमुखता के आधार पर एक करोड़ स्वास्थ्य कर्मियों व दो करोड़ अग्रिम पंक्ति के कर्मचारियों को मुफ्त में टीका लगेगा। जुलाई तक 27 करोड़ लोगों को टीका लगाने की योजना है, लेकिन यह कैसे लगेगा, इस पर अभी तैयारी चल रही है। उन्होंने लोगों से अपील की कि किसी तरह के अफवाहों पर ध्यान न दें, कोरोना का टीका पूरी तरह सुरक्षित है।


केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री शनिवार को दिल्ली के जीटीबी अस्पताल व दरियागंज में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी) में टीकाकरण के पूर्वाभ्यास (ड्राई रन) का निरीक्षण करने के बाद पत्रकारों के सवालों का जवाब दे रहे थे। हर्षवर्धन ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार देश के सभी लोगों को कोरोना से सुरक्षित रखना चाहती है। टीके का विकास भी उसी प्रक्रिया का हिस्सा है। सरकार की प्रमुखता टीके से सुरक्षा व संक्रमण से बचाव में उसकी क्षमता है। पोलियो टीकाकरण के दौरान भी कुछ अफवाह फैलाए गए थे, लेकिन धीरे-धीरे लोगों को एहसास हुआ कि बच्चों को पोलियो से बचाने के लिए टीकाकरण जरूरी है। परिणाम यह हुआ कि देश पोलियो मुक्त हो गया।


केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि कोरोना के खिलाफ टीकाकरण का सबसे बड़ा अभियान शुरू होने से पहले शनिवार को देशभर के 119 जिलों के 260 टीकाकरण केंद्रों पर पूर्वाभ्यास हुआ, जिसमें दिल्ली के तीन जिलों में तीन टीकाकरण केंद्र शामिल हुए। इस पूर्वाभ्यास से आकलन किया गया कि को-विन प्लेटफार्म कैसे काम करेगा, वेटिंग रूम में बैठने की किस तरह व्यवस्था होगी? आब्जर्वेशन रूम, दुष्प्रभाव होने पर टीका केंद्र पर इमरजेंसी किट व दवाओं की उपलब्धता, यदि किसी को अस्पताल में स्थानांतरित करने की जरूरत पड़ी तो उसके लिए क्या व्यवस्था है इन तमाम चीजों का आकलन किया गया।


उन्होंने बताया कि करीब दो हजार मास्टर ट्रेनर तैयार किए गए हैं। जिस तरह चुनाव के समय बूथ पर तैनात कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया जाता है, उसी तरह सभी स्वास्थ्य कर्मी प्रशिक्षित किए गए हैं। करीब 150 पेज की विस्तृत दिशानिर्देश तैयार किया गया है।

टीकाकरण का लंबा अनुभव

हर्षवर्धन ने कहा कि देश को टीकाकरण का लंबा अनुभव है। हर साल करोड़ों बच्चों को टीका दिया जाता है। रूबेला की रोकथाम के लिए दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान भारत में चलाया गया। पोलियो से पीड़ित 60 फीसद बच्चे भारत में होते थे। टीकाकरण के जरिये ही बीमारी को खत्म किया गया। उन अनुभवों का इस्तेमाल करके कोरोना के टीकाकरण की तैयारी की गई है।