केंद्रीय मंत्री डा. हर्षवर्धन को केजरीवाल के मंत्री का जवाब, ‘हम टीकों के बीच अंतर के बारे में नहीं जानते’

0 68


टीका (वैक्सीन) वितरण को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डा. हर्षवर्धन की तरफ से दिए गए बयान पर दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा है कि एक वैक्सीन को एक वैक्सीन सेंटर में दिया जाना चाहिए। इसी लिहाज से एक सेंटर पर एक वैक्सीन को दिया गया है। उन्होंने कहा कि हम टीकों के बीच किसी भी अंतर के बारे में नहीं जानते हैं। 81 केंद्रों में से 75 केंद्रों पर कोविशील्ड और 6 केंद्रों पर को-वैक्सीन दी जा रही है। सैकड़ों स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगाया गया है। अभी तक प्रतिकूल प्रभाव की कोई रिपोर्ट नहीं है।

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा है कि केंद्र सरकार ने दोनों टीकों को मंजूरी दी है। दोनों टीकों को मंजूरी देने से पहले केंद्र सरकार ने सभी प्रोटोकाल का पालन किया होगा। बता दें कि आरएमएल अस्पताल के डाक्टरों द्वारा को-वैक्सीन टीका लगवाने से मनाकर करने के बारे में पूछे जाने पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डा हर्षवर्धन ने कहा कि वैक्सीन वितरण की जिम्मेदारी दिल्ली सरकार की है।


अफवाहों पर लोग ध्यान न दें- डॉ. हर्षवर्धन

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने टीकाकरण शुरू होने के बाद एम्स में कहा कि टीके को लेकर फैलाई जा रही अफवाहों पर लोग ध्यान न दें। कोरोना के खिलाफ लड़ाई में कोवैक्सीन व कोविशील्ड टीका संजीवनी साबित होगा। उन्होंने प्रमुखता श्रेणी वाले लोगों से टीका लगवाने की अपील की और कहा कि वे विशेषज्ञों की बात को मानें। वहीं दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने भी कहा कि लोग अफवाहों पर ध्यान न दें।


केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने दिया था ये बयान

आरएमएल अस्पताल में रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (आरडीए) द्वारा कोवैक्सीन का टीका लेने से इन्कार करने के बाद टीकों के वितरण की प्रक्रिया पर उठे विवाद पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि इमरजेंसी में इस्तेमाल के लिए दोनों टीके (कोविशील्ड व कोवैक्सीन) सुरक्षित हैं। दोनों टीके एक समान प्रभावी है, इसलिए टीके से सुरक्षा और उसके प्रभाव को लेकर कोई दुविधा नहीं है। दिल्ली में केंद्र सरकार के अस्पतालों में सिर्फ कोवैक्सीन भेजने का फैसला दिल्ली सरकार का है। इसलिए दिल्ली सरकार ही इस बात का जवाब दे सकती है कि किस आधार पर यह फैसला हुआ।A