उत्तरी निगम नगर निगम के डीसी ने कोर्ट में शपथ देकर बताई थी मंदिर तोड़ने की तारीख : AAP

0 75


चांदनी चौक इलाके में स्थित प्राचीन मंदिर को तोड़े जाने पर भाजपा और आम आदमी पार्टी (आप) में आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। मंगलवार को AAP के मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने भाजपा द्वारा आप पर लगाए जा रहे झूठे आरोपों का जवाब देते हुए कहा कि उत्तरी निगम के उपायुक्त सतनाम सिंह ने ही कोर्ट में शपथ पत्र दायर कर कहा था कि त्योहारों के चलते हनुमान मंदिर नहीं तोड़ पाए, लेकिन अब उनकी तैयारी पूरी हो चुकी है। उन्होंने कोर्ट को मंदिर तोड़ने की तारीख भी बताई थी और मंदिर को तोड़ दिया गया। उन्होंने सवाल किया कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता स्पष्ट करें कि कोर्ट में दाखिल यह शपथ पत्र उनका है या नहीं।

शपथ पत्र की कॉपी दिखाई

उत्तरी निगम के उपायुक्त द्वारा हाई कोर्ट में दाखिल किए गए शपथ पत्र की कॉपी दिखाते हुए भारद्वाज ने कहा कि इसमें यह लिखा हुआ है कि बीते दिनों त्योहारों के कारण हम इस मंदिर को नहीं तोड़ पाए थे, लेकिन अब हमारी पूरी तैयारी हो चुकी है। उन्होंने कहा कि उत्तरी निगम के मेयर और स्टैंडिंग कमेटी की जानकारी के बिना उनका अधिकारी कोर्ट को मंदिर तोड़ने की तारीख कैसे दे सकता है।


उन्होंने कहा कि मानुषी संगठन नामक संस्था ने मंदिर तोड़ने की गुहार कोर्ट में लगाई थी। इस संस्था को चलाने वाले लोगों में से एक व्यक्ति संजय भार्गव भाजपा नेता विजय गोयल के करीबी मित्रों में से एक हैं। पिछले महीने खींची गई एक तस्वीर दिखाते हुए सौरभ ने कहा कि इस तस्वीर में साफ तौर से संजय भार्गव, भाजपा नेता विजय गोयल और स्टैं¨डग कमेटी के भाजपा के अध्यक्ष को देख सकते हैं। उन्होंने कहा कि यदि AAP चांदनी चौक इलाके में जाकर संजय भार्गव के बारे में पता करें तो लोग आपको बताएंगे कि वे भाजपा के जाने-माने कार्यकर्ता हैं।