इंजीनियर बने 318 युवाओं में बांटी डिग्रियां, हरनीत राष्ट्रपति गोल्ड मेडल से सम्मानित

0 88


भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आइआइटी) रोपड़ का वार्षिक नौवां कन्वोकेशन समारोह शुक्रवार को संपन्न हो गया। इस बार कोविड 19 महामारी के कारण यह समारोह वर्चुअल मोड पर आनलाइन प्लेटफार्म पर आयोजित किया गया। समारोह प्री रिकार्डिड था और इसको यू ट्यूब पर ढाई बजे पर प्रसारित किया गया। संस्थान के डायरेक्टर प्रोफेसर सरित कुमार दास ने इस मौके सालाना रिपोर्ट पेश की और फेकल्टी सदस्यों, कर्मचारियों और विद्यार्थियों को बधाई दी। उन्होंने मुख्य मेहमान भारत सरकार के प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार प्रोफेसर के विजय राघवन और बोर्ड आफ गवर्नेंस के प्रमुख डा.के राधाकृष्णन को आनलाइन कन्वोकेशन समागम के लिए समय निकालने और शिरकत करने के लिए धन्यवाद किया।

उल्लेखनीय है कि आइआइटी रोपड़ में अलग-अलग अकादमिक प्रोग्राम में 318 विद्यार्थी ग्रेजुएट हुए हैं। इनमें पीएचडी में से कुल 32 , एमएस रिसर्च में से चार एमटेक में से 71, एमएससी में 69, बीटेक में 135 विद्यार्थी, बीटेक ड्यूल डिग्री प्रोग्राम में सात विद्यार्थियों ने डिग्रियां प्राप्त की। इसके अलावा सर्वोत्तम पीएचडी थीसिज अवार्ड मोहित राज सक्सेना (मेकेनिकल इंजीनियरिग), शहरियर सरकार (भौतिक), सुभाजयोती समंता (रसायन शास्त्र) को दिया गया। सन्नी ओबरा बेस्ट एमटेक थीसिज अवार्ड पियूष महाजन (मेकेनिकल इंजीनियरिग)को दिया गया है। दूसरा पुरस्कार जी. नितिन रेड्डी (इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिग)को और तीसरा इनाम अंकिता डे (बायोमेडिकल इंजीनियरिग) को दिया गया है।

साल 2019 – 20 में बैचलर आफ टेक्नोलाजी के ग्रेजुएट विद्यार्थियों में सर्वोत्त्म सीजीपीए प्राप्त करने के लिए राष्ट्रपति गोल्ड मेडल इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिग विभाग के हरनीत सिंह सूदन को दिया गया। बैचलर आफ टेक्नोलाजी में ग्रेजुएट विद्यार्थियों में से सबसे सर्वोत्तम प्रदर्शन करने के लिए डायरेक्टर गोल्ड मेडल कंप्यूटर विज्ञान और इंजीनियरिग विभाग की विद्यार्थी कोमल को प्रदान किया गया है। इन छात्रों को सिल्वर मेडल से किया सम्मानित सिविल इंजीनियरिग विभाग के बैचलर आफ टेक्नोलाजी प्रोग्राम के स्नातक विद्यार्थियों में से सबसे उच्च सीजीपीए प्राप्त करने के लिए संस्थान सिल्वर मेडल विक्रांत सयाल को प्रदान किया गया। कंप्यूटर विज्ञान और इंजीनियर विभाग में बेचलर आफ टेक्नोलाजी प्रोग्राम से ग्रेजुएशन करने वाले विद्यार्थियों में सिल्वर मेडम मिस कोमल को प्रदान किया गया है।

मेकेनिकल इंजीनियरिग में सिल्वर मेडल माचा विद्यारन्नया को प्रदान किया गया है। बीटेक एमटेक ड्यूल डिग्री) में सिल्वर मेडल विशाल कुमार को प्रदान किया गया। साल 2019-20 में सेंटर फार बायोमेडिकल इंजीनियरिग में मास्टर आफ टेक्नोलाजी प्रोग्राम में सिल्वर मेडल एकता गुप्ता को प्रदान किया गया। कंप्यूटर विज्ञान और इंजीनियरिग में जंगम रेड्डी व निखिल कुमार और इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिग सिल्वर मेडल आशुतोष प्रजापति को दिया गया। मास्टर आफ टेक्नोलाजी प्रोग्राम में राहुल कुमार, रसायन विज्ञान में पंकज सिंह पटवाल व गणित में मास्टर आफ विज्ञान (एमएससी.) प्रोग्राम में से सबसे अधिक सीजीपीए प्राप्त करने के लिए सिल्वर मेडल सुशांत को प्रदान किया गया।

पर्यावरण को स्वच्छ रखना बड़ी चुनौती कार्यक्रम के दौरान मुख्य मेहमान प्रो.के विजय राघवन ने उम्मीद जताई कि वैज्ञानिक और इंजीनियर कम्युनिटी इन चुनौतियों के जरिये विश्व को आगे बढ़ाने में सहायता करने के लिए अपना योगदान निभाएंगे। उन्होंने कहा कि प्रदूषित हो चुके वातावरण और जलवायु को फिर स्वच्छ करने के लिए मनुष्य के लिए एक महत्वपूर्ण जिम्मेदारी है और यह आज के नौजवानों के लिए सबसे बड़ी चुनौती है। डा. राधाकृष्णन ने की आइआइटी की प्रशंसा आइआइटी रोपड़ के बोर्ड आफ गवर्नेस के चेयरमैन डा. के राधाकृष्णन ने कहा कि अकादमिक एक्सीलेंस आइआइटी रोपड़ का आधार है। उन्होंने संस्थान में खोज के लिए मौजूद बुनियादी ढांचे और वातावरण की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि आइआइटी रोपड़ के खोज नतीजे और अलग-अलग प्रकाशन एक मिसाल हैं।