इंग्लैंड के कोच ने बताया उन दो भारतीय खिलाड़ियों का नाम, जिन्होंने मेहमान टीम को किया परेशान

0 26


भारत के खिलाफ टेस्ट सीरीज हारने के बाद इंग्लैंड के कोच क्रिस सिल्वरवुड ने मेजबान भारतीयी टीम के स्पिनर अक्षर पटेल और रविचंद्रन अश्विन की प्रशंसा की है। कोच सिल्वरवुड ने ये भी माना है कि इस जोड़ी ने उनके लिए जीवन बहुत कठिन बना दिया था। टीम इंडिया ने शनिवार को आइसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) के तहत खेली गई चार मैचों की टेस्ट सीरीज में इंग्लैंड को 3-1 से हरा दिया।

अश्विन ने इंग्लैंड के खिलाफ चार मैचों की सीरीज 32 विकेटों के साथ पूरी की और उन्होंने अपना आठवां मैन ऑफ द सीरीज अवॉर्ड जीता। दूसरी ओर, अक्षर पटेल ने सीरीज में 27 विकेट हासिल किए। कोच क्रिस सिल्वरवुड ने वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, “उन्होंने (अश्विन और एक्सर) जीवन को हमारे लिए बहुत कठिन बना दिया।भारत ने हमें खेल से निकाल दिया। ऐसे में भारत बहुत सारे श्रेय का हकदार है। उन्होंने पहले टेस्ट के बाद मुश्किल से वापसी की।”


अपनी टीम के WTC के फाइनल में नहीं पहुंचने को लेकर कोच सिल्वरवुड ने कहा, “हम यहां जीतना चाहते थे। हमने पहले टेस्ट में कड़ी मेहनत की और इसे जीता और फिर भारत ने आखिरी तीन टेस्ट मैचों में वापसी की। यह यहां खेलने और जीतने के लिए बहुत मुश्किल जगह है। समय-समय पर इतिहास हमें बताता है कि न केवल इंग्लैंड के लिए, बल्कि अन्य टीमों के लिए भी यहां जीतना मुश्किल है।”

विराट कोहली की कप्तानी वाली टीम ने इंग्लैंड को चौथे टेस्ट मैच में हराने के बाद आइसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में प्रवेश कर लिया था, जहां अब उनका सामना न्यूजीलैंड की टीम से होगा। भारत ने यहां के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में इंग्लैंड को आखिरी टेस्ट मैच में पारी और 25 रन से हराया था। विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल मैच 18 जून 22 जून के बीच लंदन के लॉर्ड्स में आयोजित होना है। 23 जून का दिन इस मुकाबले के लिए रिजर्व डे है।


भारत ने विश्व टेस्ट चैंपियनशिप की अंकतालिका में 72.2 प्रतिशत अंक हासिल किए और टीम पहले स्थान पर रही। इस सीरीज से पहले इंग्लैंड के पास भी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचने का मौका था। यहां तक कि भारत के खिलाफ इंग्लैंड ने पहला टेस्ट जीता था, लेकिन मेजबान टीम हार से उबरी और फिर अगले तीन मैच जीतकर सीरीज जीती और विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में प्रवेश किया।