अब दिल्‍ली के लोगों को मिलेगा 24 घंटे पानी, केजरीवाल सरकार कर रही योजना की तैयारी 

0 143

नई दिल्ली, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्लीवासियों को 24 घंटे स्वच्छ जलापूर्ति देने के संबंध में दिल्ली जल बोर्ड के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। बैठक में 24 घंटे जलापूर्ति को लेकर बोर्ड की वर्तमान में चल रही और भविष्य में पूरी होने वाली परियोजनाओं पर विस्तार से चर्चा की गई। इस दौरान केजरीवाल ने कहा कि वे हर महीने जलापूर्ति, वर्षा जल संचयन और सीवर की पाइप लाइन बिछाने के प्रोजेक्ट की प्रगति की समीक्षा करेंगे। समीक्षा बैठक में बोर्ड के चेयरमैन सत्येंद्र जैन और उपाध्यक्ष राघव चड्ढा के साथ वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद रहे।

योजना में पैसे की फिजूलखर्ची भी रोक सकेंगे

केजरीवाल ने कहा कि हमें सभी प्रोजेक्ट को निर्धारित समयसीमा के अंदर पूरा करने पर ध्यान देना होगा। जो प्रोजेक्ट चल रहे हैं, उनके पूरा होने की समयसीमा भी निर्धारित की गई है, इससे हम लोगों को जल्द राहत पहुंचा सकेंगे और योजना में पैसे की फिजूलखर्ची भी रोक सकेंगे। उन्होंने कहा कि ‘मैं दिल्ली को 24 घंटे पानी की आपूर्ति को लेकर चल रहे प्रोजेक्ट की हर महीने की 15 तारीख के आसपास समीक्षा करूंगा और समीक्षा बैठक में जल बोर्ड के अधिकारी प्रेजेंटेशन के जरिए उन्हें कार्य की प्रगति के बारे में जानकारी देंगे।’ बैठक में वर्षा जल संचयन और सीवर लाइन के प्रोजेक्ट की प्रगति रिपोर्ट भी देनी होगी।


2031 तक 1500 एमजीडी पानी की पड़ेगी जरूरत

बैठक में बोर्ड के अधिकारियों ने बताया कि दिल्ली को 2031 तक करीब 1500 एमजीडी पानी की जरूरत पड़ेगी। दिल्ली की कॉलोनियों में पानी की आपूर्ति पाइपलाइन से पहुंचाने का प्रयास तेजी से जारी है। अभी तक 1799 कॉलोनियों में से 1622 में पाइपलाइन बिछाई जा चुकी है। अगले छह महीने में इन कॉलोनियों में पाइपलाइन से साफ पानी की आपूर्ति हो जाएगी। इसके अलावा, 113 कॉलोनियों को छोड़ कर बाकी में मार्च 2022 तक पानी की पाइपलाइन पहुंच जाएगी।


समस्या के समाधान के लिए एलजी से करेंगे बात

समीक्षा बैठक के दौरान बोर्ड के अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को बताया कि एसटीपी के निर्माण के लिए सात स्थानों पर जमीन की समस्या आ रही है। इस पर केजरीवाल ने कहा कि जहां पर भी जमीन को लेकर समस्या आ रही है, उसके लिए वे एलजी से बात करेंगे। उन्होंने कहा कि वर्षा जल संचयन का नया मॉडल अपनाया जाएगा और आवासीय और व्यावसायिक क्षेत्रों में पानी को फिल्टर करके बोरवेल में डाला जाएगा।


अब नहीं टूटेंगी सड़कें, पहले ही डाल दी जाएगी सीवरलाइन

बोर्ड के चेयरमैन सत्येंद्र जैन ने कहा कि अक्सर देखा जाता है कि सीवरलाइन डालने के लिए बार-बार सड़क को खोदना पड़ता है। इससे लोगों को परेशानी होती है। इसलिए दिल्ली में जहां पर भी सड़क का निर्माण किया जा रहा है, वहां पर पहले ही पाइपलाइन डाली जाएगी, ताकि बाद में खोदाई करने की नौबत नहीं आए। उन्होंने बताया कि दूसरे राज्यों से दिल्ली को आवश्यक पानी नहीं मिल पा रहा है और पानी प्राप्त करने में समस्या आ रही है। अभी प्राप्त पानी की सौ फीसद आपूर्ति की जा रही है।