अब एम्स में पहले मरीजों का होगा कोविड टेस्ट तब होगी एंट्री, गुलेरिया ने दिया निर्देश

0 9


राजधानी में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ने के साथ ही एम्स ने पहले की तरह अपने सभी विभागों में व्यवस्थाएं दुरुस्त करने की तैयारी शुरू कर दी है। इसके लिए निदेशक डा रणदीप गुलेरिया ने मंगलवार शाम को एक बैठक बुलाई। बैठक में सभी विभागाध्यक्षों के साथ ही कोविड-19 टास्क फोर्स के चेयरमैन डा नवीत विग भी मौजूद रहे। इस दौरान डा गुलेरिया ने सभी विभागाध्यक्षों को अपने-अपने विभागों में कोरोना संक्रमण के मामलों पर नजर रखने वाली टीमों और कांटेक्ट ट्रेसिंग टीमों को सक्रिय करने के निर्देश दिए।

स्नातक छात्रों की पढ़ाई आनलाइन माध्यम से शुरू करने के निर्देश

इसके साथ ही अस्पताल में पढ़ने वाले स्नातक छात्रों की पढ़ाई आनलाइन माध्यम से शुरू करने और उन्हें घर जाने की अनुमति देने के भी निर्देश दिए। छात्र अपने घर से ही आनलाइन क्लास ले सकते हैं।


मरीजों का पहले होगा एंटीजन टेस्ट

इसके साथ ही अस्पताल के आपातकालीन विभाग में आने वाले सभी मरीजों का पहले एंटीजन टेस्ट करने और इसके बाद ही उन्हें भर्ती करने का भी निर्णय लिया गया। इसके साथ ही गैर कोरोना मरीजों से भरे हुए बेड को जल्दी से जल्दी खाली कराकर उन्हें कोरोना संदिग्ध मरीजों के लिए तैयार करने के लिए भी कहा गया है। ताकि अगर संक्रमण पहले की तरह बढ़ा तो उनका इस्तेमाल किया जा सके।


सभी बेडों के बीच छह फीट की दूरी बनाने का निर्देश

इसके साथ ही सामान्य वार्ड में स्थित सभी बेड के बीच की दूरी भी बढ़ाकर छह फीट करने के निर्देश गए। इससे संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। इसके साथ ही छात्रावास में भी संक्रमण को रोकने की तैयारियां शुरू कर दी गई हैं।