अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस : महिला स्वामित्व वाले व्यवसाय बढ़ाने की है जरूरत- एलिजाबेथ

78


लगभग एक शताब्दी से अधिक का समय बीत जाने के बाद, विश्व के अधिकांश देशों ने महिलाओं के लिए अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में एक दिन समर्पित किया है। महिला शिक्षा, मातृत्व सुरक्षा और स्वच्छता आदि विषय को यदि छोड़ दिया जाएं तो ऐसा एक भी देश नहीं है जहां पूर्ण रूप से लैंगिक समानता (जेंडर इक्वेलिटी) को प्राप्त कर लिया गया हो। महिलाओं के पक्ष में देखे जाने वाले सकारात्मक बदलाव की गति विश्व भर में बहुत कम है। विकासशील देशों में यह बात अधिक सही साबित होती है जहां महिलाओं की तरक्की को अनादि काल से सांस्कृतिक पूर्वाग्रहों से रोका गया है या बाधित किया गया है।

11 साल पहले हमने जब वी कनेक्ट इंटरनेशनल की शुरूआत की तब हमने ऐसे संसार की कल्पना की जहां महिलाओं को आगे बढ़ने के लिए पुरूषों के सामान ही आर्थिक अवसर प्राप्त हों। विशेष रूप से व्यवसायों को डिज़ाइन करने और समस्याओं के समाधान के उन्हें ऐसे अवसर मिले, जिससे वह अपने समूह के बीच आर्थिक तरक्की कर आजीविका को बेहतर कर सके। हालांकि अभी विश्व भर में निजी क्षेत्र के केवल 30 प्रतिशत व्यवसाय ही महिला स्वामित्व वाले हैं। मैं यह कल्पना भी नहीं कर सकती कि वर्ष 2021 में महिला उद्यमिता की यह हिस्सेदारी बड़े कारपोरेट और सरकारी क्षेत्र के आपूर्तिकर्ताओं के बीच केवल एक प्रतिशत तक बढ़ने की उम्मीद है, आप समझ रहे हैं तीस प्रतिशत आबादी और उद्यमिता में केवल एक प्रतिशत की हिस्सेदारी।


निश्चित रूप से हम इससे कहीं बेहतर कर सकते हैं और हमें यह करना चाहिए। इसके लिए हर साल केवल एक ही दिन अपनी इच्छानुसार आवाज़ बुलंद करने से कहीं अधिक प्रयास की आवश्यकता है। लैंगिक समानता प्राप्त करने के लिए हमें साल भर एक साथ मिल कर काम करना होगा। यदि हम यूनाइटेडनेशन सस्टनेबल डवलपमेंट गोल पांच (एसडीजी पांच)को प्राप्त करना चाहते हैं तो हमें इस बारे में गंभीरता से सोचना होगा, तब ही वर्ष 2030 तक लैंगिक समानता को प्राप्त किया जा सकेगा।


इसीलिए अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2021 पर वी कनेक्ट इंटरनेशनल बड़े अनुभवी आपूर्तिकर्तओं को महिला उद्यमियों के उत्पाद व महिला आपूर्तिकर्ताओं से जोड़ने के अपने लक्ष्य को लेकर कटिबद्ध है। हालांकि यह बेहद चुनौती पूर्ण है। वी कनेक्ट से जुड़े 110 वैश्विक आपूर्ति कर्ता सदस्यों ने वर्ष एसडीजी-पांच के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए महिला स्वामित्व वाले व्यवसायों के साथ साक्षेदारी की है। आपूर्ति कर्ता सदस्यों के पास अपनी प्रतिबद्धता पूरी करने के लिए अगले एक साल का समय है। वर्ष 2022 के आठ मार्च अंतराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर वी कनेक्ट इंटरनेशनल अपनी इस उपलब्धि की सार्वजनिक घोषणा करेगा।


हमारे कई आपूर्ति कर्ता सदस्य, कंपनी जैसे एसेंचर, कीसको, इंटेल, आईबीएम, जॉन्सन एंड जॉन्सन, मैरिएट और पीएंडजी आदि कुछ नाम हैं जिन्होंने साउथ एशिया में व्यापार करने की साक्षेदारी की है। भारत में महिला स्वामित्व वाले व्यापार से अधिक उत्पादों की ख़रीददारी के प्रयासों को बढ़ाकर वैश्विक और क्षेत्रीय स्तर के ख़रीददारी कंपनियों के लक्ष्य को पूरा करने और अन्य क्षमता निर्माण की दिशा में प्रगति करने में योगदान कर सकते हैं। महिला स्वामित्व वाले व्यापारों से आपूर्तिकर्ताओं द्वारा की गई प्रतिबद्धता को पूरा करने और आपूर्ति कर्ता सदस्यों को बढ़ाने और उन्हें लोगों तक पहुंचाने के लिए वी कनेक्ट इंटरनेशनल कई स्तर पर काम करता है यह आपूर्ति कर्ता विविधता के साथ ही भारतीय आपूर्तिकर्ताओं को खोजने की मांग भी बढ़ाएगा। निश्चित रूप से यह प्रयास कोविड19 महामारी में आर्थिक रूप से प्रभावित हुए व्यवसायों को गति देने में सहायक होगा।


महिला स्वामित्व वाले व्यवसायों को व्यापक बाजार उपलब्ध कराने और व्यवसाय में लिंग आधारित अंतर (महिला-पुरूष) को दूर कर, समान अवसर उपलब्ध कराने की यह रणनीति महिलाओं को स्वालंब बनाने में कारगर होगी, कल्पना कीजिए यह कितना प्रभावकारी होगा जबकि महिला स्वामित्व वाले व्यवसायों की भागीदारी बढ़ेगी और महिलाएं आठ मिलियन से अधिक लोगों को रोज़गार देने में सक्षम होगीं।

ऐसा करने से महिलाओं में नेतृत्व की भूमिका मजबूत होगी और वह अधिक चुनौतियों को स्वीकार करेगीं। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया आरबीआई द्वारा 2019 में कराए गए एक सर्वेक्षण के अनुसार महिला उद्यमिता को बढ़ावा देने के सरकार के राजनीतिक उद्देश्यों के बावजूद देश के सूक्ष्म, मध्यम और छोटे व्यवसायों में महिलाओं की भागीदारी केवल 14 प्रतिशत ही है, कुल स्टार्ट अप मे केवल 5.9 प्रतिशत महिला स्वामित्व वाले स्टार्टअप हैं। इसलिए महिलाओं के पास आगे बढ़ने के अपार अवसर हैं।

स्पष्ट है कि महिला स्वामित्व वाले व्यवसायों में निवेश करना बड़े स्तर के आपूर्तिकर्ताओं को अब फायदे का सौदा लग रहा है। लेकिन व्यक्तिगत रूप से उपभोक्ताओं के लिए यह एक बुद्धिमान भरा निर्णय होगा, यदि वह स्थानीय स्तर पर महिला स्वामित्व वाले व्यवसायों को बढ़ावा देगें, इससे पूरे समुदाय को लाभ मिलेगा।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.